Scholars

Rahat Indori Best Poetry & Shayari [Hindi], Biography, Family

rahat-indori-shayari

Rahat Indori Best Poetry & Shayari [Hindi], Biography, Family: Rahat Indori is a famous name in urdu poetry. His poetry touches every heart. . He is bold and courageous poet. Every line and every stanza of his poems is the mirror of truth. He got fame from all over the world. He collected awards from all over the world. He got honors from every part of the country.

We cant introduce him better than him. According to his official website:-

“Dr. Rahat Indori’s career graph has the typical tough-times-to-tinsel-town element to it. A Painter turned Professor, Poet and then Hindi film Lyricist. Rahat was a Pedagogist of Urdu literature in Indore University before his flair was spotted by Mumbai’s film industry and the listeners of Urdu poetry across the World. A thorough gentleman, with philosophic inclinations, Rahat Indori is known for his poetic brilliance and absolute commitment to work.”

 

rahat-indori-shayari

Rahat Indori Best Poetry & Shayari

उस की याद आई है सांसो ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

ना हमसफ़र ना किसी हमनशीं से निकलेगा
हमारे पांव का कांटा हमीं से निकलेगा

दिल भी किसी फ़क़ीर के हुजरे से कम नहीं
दुनिया यहीं फैला के छुपा देनी चाहिए

मैं ख़ुद भी करना चाहता हूँ अपना सामना
तुझको भी अब निक़ाब उठा देनी चाहिए

मुझे वो छोड़ गया यह कमाल है उस का
इरादा मैंने किया था कि छोड़ दूँगा उसे

बदन चुरा के वो चलता है मुझसे शीशा-बदन
उसे ये डर है कि मैं तोड़ फोड़ दूँगा उसे

Similar Posts  Syed Qasim Rasool Ilyas Wiki [President Welfare Party Of India Images]

तेरी हर बात मुहब्बत में गवारा कर के
दिल के बाज़ार में बैठे हैं ख़सारा कर के

आते-जाते हैं कई रंग मरे चेहरे पर
लोग लेते हैं मज़ा ज़िक्र तुम्हारा कर के

फूंक डालूँगा किसी रोज़ में दिल की दुनिया
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी ना सकूँ

इक ना इक रोज़ कहीं ढूंढ ही लूँगा तुझको
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी ना सकूँ

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको
वहां पे ढूंढ रहे हैं जहां नहीं हूँ में

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ में

Rahat Indori:  Personal Information

Real NameRahat Qureshi (Indori)
Date of Birth1 January 1950
Birth PlaceIndore, Madhya Bharat
(known as Madhya Pradesh)
Education M.A., Ph.D in Urdu Literature
SpouseSeema Rahat Anjum Rahbar
Children4
ParentsRafatullah Qureshi,
Maqboolunnisa Begum
Siblings3
AwardsUP Hindi Urdu Sahitya Award,Mohd Ali Taj Award MP Urdu Academy
Died11 August 2020 Madhya Pradesh

दोस्ती जब किसी से की जाये
दुश्मनों की भी राय ली जाये

मौत का ज़हर है फ़ज़ाओं में
अब कहाँ जा के सांस ली जाये

बोतलें खोल के तू पी बरसों
आज दिल खोल कर ही पी जाये

ख़ुद को पत्थर सा बना रखा है कुछ लोगों ने
बोल सकते हैं मगर बात ही कब करते हैं

एक एक पल को किताबों की तरह पढ़ने लगे
उम्र-भर जो ना किया हमने वो अब करते हैं

हम पे हाकिम का कोई हुक्म नहीं चलता है
हम क़लंदर हैं शहनशाह लक़ब करते हैं

Similar Posts  Shruti Sinha (MTV SPlitsvilla 11 Winner) Wiki, Bio, Boyfriend, Images

मैं करवटों के नए ज़ाइक़े लिखूँ शब-भर
ये इश्क़ है तो कहाँ ज़िंदगी अज़ाब करूँ

Rahat Indori : Books

Rut
Do Qadam aur Sahi
Mere Bad
Dhoop Bahut Hai
Chand Pagal Hai
Maujood
Naraz
Qalandar
Rahat Sahab

कभी दिमाग़ कभी दिल कभी नज़र में रहो
ये सब तुम्हारे ही घर हैं किसी भी घर में रहो

किसी को ज़ख़्म दिए हैं किसी को फूल दिए
बुरी हो चाहे भली हो मगर ख़बर में रहो

मैं इंतिज़ार में हूँ तो कोई सवाल तो कर
यक़ीन रख मैं तुझे ला-जवाब कर दूँगा

हज़ार पर्दों मैं ख़ुद को छुपा के बैठ मगर
तुझे कभी ना कभी बे-नक़ाब कर दूँगा

Rahat Indori:  Address

Rahat Indori Foundation
Post Box. No. 555
Indore, Madhya Pradesh, India
Email: rahatindoripost@gmail.com

Related Tags: Rahat Indori Best Poetry & Shayari [Hindi], Biography, Family,Rahat Indori Best lines, Rahat Indori Romantic Poetry,